भागवत महापुराण तृतीय स्कंध अध्याय 4 उद्धवजी से विदा होकर विदुरजी का मैत्रेय ऋषि के पास जाना

#श्रीमद्भागवत #महापुराण #तृतीय #स्कंध #अध्याय 4 #उद्धवजी से #विदा होकर #विदुरजी का #मैत्रेय #ऋषि के पास जाना की #कथा #सुनिए by Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/E92J8RpG40w #विदुर जी! इससे यद्यपि मैं उनका आशय समझ गया था, तो भी स्वामी के चरणों का वियोग न सह सकने के कारण मैं उनके पीछे-पीछे #प्रभास क्षेत्र में पहुँच गया। वहाँ मैंने देखा कि जो सबके आश्रय हैं किन्तु जिनका कोई और आश्रय नहीं है, वे प्रियतम प्रभि शोभाधाम #श्यामसुन्दर सरस्वती के तट पर अकेले ही बैठे हैं। दिव्य विशुद्ध-सत्त्वमय अत्यन्त सुन्दर #श्याम शरीर है, शान्ति से भरी रतनारी आँखें हैं। उनकी चार भुजाएँ और रेशमी पीताम्बर देखकर मैंने उनको दूर से ही पहचान लिया। वे एक #पीपल के छोटे-से वृक्ष का सहारा लिये बायीं जाँघ पर दायाँ चरणकमल रखे बैठे थे। भोजन-पान का #त्याग कर देने पर भी वे आनन्द से प्रफुल्लित हो रहे थे। इसी समय व्यास जी के प्रिय मित्र परम #भागवत सिद्ध मैत्रेय जी लोकों में स्वच्छन्द विचरते हुए वहाँ आ पहुँचे। मैत्रेय मुनि भगवान् के अनुरागी भक्त हैं। आनन्द और #भक्तिभाव से उनकी गर्दन झुक रही थी। उनके सामने ही #श्रीहरि ने प्रेम एवं मुस्कान युक्त चितवन से मुझे आनन्दित करते हुए कहा। #श्रीकृष्ण भगवान् कहते हैं- मैं तुम्हारी आन्तरिक अभिलाषा जानता हूँ; इसलिये मैं तुम्हें वह साधन देता हूँ, जो दूसरों के लिये अत्यन्त दुर्लभ है। उद्धव! तुम #पूर्वजन्म में वसु थे। विश्व की रचना करने वाले प्रजापतियों और वसुओं के यज्ञ में मुझे पाने की इच्छा से ही तुमने मेरी #आराधना की थी। साधुस्वभाव उद्धव! संसार में तुम्हारा यह अन्तिम जन्म है; क्योंकि इसमें तुमने मेरा अनुग्रह प्राप्त कर लिया है। अब मैं #मर्त्यलोक को छोड़कर अपने धाम में जाना चाहता हूँ। इस समय यहाँ #एकान्त में तुमने अपनी अनन्य भक्ति के कारण ही मेरा दर्शन पाया है, यह बड़े सौभाग्य की बात है। पूर्वकाल (पाद्मकल्प) के आरम्भ में मैंने अपने नाभिकमल पर बैठे हुए #ब्रह्मा को अपनी महिमा से प्रकट करने वाले जिस श्रेष्ठ ज्ञान का उपदेश किया था और जिसे विवेकी लोग #भागवत कहते हैं, वही मैं तुम्हें देता हूँ। #श्रीमद्भागवत कथा #तृतीय स्कन्ध चतुर्थ #अध्याय, #उद्धव जी से विदा होकर #विदुर जी का मैत्रेय #ऋषि के पास जाना की कथा सुनिए अध्याय #चतुर्थ, उद्धव जी से विदा होकर विदुर जी का #मैत्रेय ऋषि के पास जाना चतुर्थ, श्रीमद्भागवत #महापुराण संस्कृत #हिंदी pdf, श्रीमद् #भागवत महापुराण #संस्कृत हिंदी, #श्रीमद्भागवत महापुराण #गीता #प्रेस #कथा, #Importance of #shrimadbhagwat katha, shri #madbhagwat mahapuran ki #katha, श्रीमद्भागवत महापुराण #तृतीय स्कन्ध अध्याय 4 की #कथा, अध्याय 4 #उद्धव जी से विदा होकर #विदुर जी का मैत्रेय ऋषि के पास जाना, #अध्याय 4 उद्धव जी से विदा होकर विदुर जी का #मैत्रेय ऋषि के पास जाना की #कथा सुनिए

Published by

www.dharmikshakti.in

Dharmik Shakti was Start 19 Nov 1998.Dharmik Shakti Sales Genuine Rudraksha Beads , Certified Gemstones, Pure Shankh, Rudraksha Mala, Religious Yantra, Religious Pendants & kavach and all types of Religious Products at reasonable prices to people worldwide. Dharmik Shakti continuously enhances knowledge on the properties of this bead based on past researches and experiences of people.The only Organization which provides High quality Rudraksha Beads and All Types Religious Products which have been 100% Guaranteed and certified. I am Pandit & sell only Original Products. Hindu Rituals Procedures that has been done by me for ENERGIZING (Pran Prathistha) of Rudraksha , Shankh, Yantra ,Kavach & Pendants before being sent to our clients. Hence you can directly start wearing the Rudraksha as soon as you have received them.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s