देखिये काव्या का मुण्डन संस्कार मानिकपुर माँ गंगा किनारे हुआ जिसमे हम घर के कुछ लोग तथा उनकी मौसी थी

देखिये #काव्या का #मुण्डन #संस्कार #मानिकपुर माँ #गंगा के किनारे हुआ जिसमे हम #घर के कुछ लोग तथा उनकी #मौसी का परिवार था by Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/dk8wV0F2LOc #काव्या #पांडेय के #मुंडन #संस्कार, #माता #पिता, #भाई तथा #बेटी, #रामचरितमानस #पाठ ,#सुन्दरकाण्ड #पाठ ,#हवन करते हुए, #ब्राह्मणो द्वारा, #पूड़ी बनाते हुए, #गौहानी, #कोठा, #कोठानेवादिया, #प्रतापगढ़, #उत्तरप्रदेश

माता पार्वती जी की आरती, आरती कीजै शैल सुता की जगदम्बा की, Aarti Parvati ki by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

माता पार्वती जी की आरती, आरती कीजै शैल सुता की जगदम्बा की, Aarti Parvati ki by Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/k3oaRRvvaJw #माता #पार्वती जी की #आरती, आरती #कीजै #शैल #सुता की #जगदम्बा की #आरती कीजे #शैल सुता की #जगदंबा जी की, स्नेह #सुधा सुख #सुन्दर लीजै, जिनके #नाम लेट दृग #भीजै, ऐसी वह माता #वसुधा की #आरती #कीजे शैल #सुता की #जगदंबा जी की जगदंबा माता की #आरती, माँ #पार्वती की आरती, माता #पार्वती आरती, पार्वती #माता, पार्वती #चालीसा, Parvati ji ki aarti #Aarti in Hindi , आरती #माँ पार्वती की, जय पार्वती #माता, #Parvati Mata Aarti, #पार्वती आरती, #माता पार्वती जी की #आरती, आरती #जगदम्बा माता की, Jagdamba #Mata Aarti, #शैल पुत्री जगदम्बाजी की आरती, #आरती कीजे #शैल सुता, #Jagdamba Ji Ki #Aarti, #जगदम्बाजी की #आरती

माता पार्वती चालीसा, जय गिरि तनये दक्षजे शम्भु प्रिये, Shri Parvati Chalisa by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

माता पार्वती चालीसा, जय गिरि तनये दक्षजे शम्भु प्रिये गुणखानि, Shri Parvati Chalisa by Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/8nQaW-0sNbU #माता #पार्वती #चालीसा #जय #गिरि #तनये #दक्षजे #शम्भु #प्रिये #गुणखानि जय #गिरी तनये #दक्षजे #शम्भू प्रिये #गुणखानी , #गणपति जननी #पार्वती #अम्बे #शक्ति #भवानी, #ब्रह्मा भेद न तुम्हरे पावे , पांच #बदन नित तुमको #ध्यावे पार्वती #मंत्र, #महागौरी #चालीसा, #पार्वती जी की आरती, #मंगला #गौरी चालीसा, पार्वती #स्तोत्र, माँ #गौरी, पार्वती #चालीसा इन हिंदी, #पार्वती के नाम, Shree Parvati #Chalisa, श्री #पार्वती चालीसा #हिंदी में, Shree #parvati Chalisa, श्री #पार्वती चालीसा, #Parvati Chalisa, #Mata PARVATI #CHALISA

दुःख, रोग, संकट, भय, अनिष्ट काल में महाकौतुहल काली ह्रदय स्तोत्रम सुने by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

#काली #ह्रदय #स्तोत्रम् #दुख, #रोग, #संकट, #भय, #अनिष्टकाल में #महाकौतूहल #काली #ह्रदय #स्तोत्रम् का #पाठ सुने, #ब्रह्म #हत्या #दोष के #निवारणार्थ #महाकौतूहल #दक्षिणकाली #ह्रदय #स्तोत्रम् #दक्षिण काली के इस स्तोत्र के रचयिता स्वयं #महाकाल हैं । एक बार महाकाल ने प्रजापिता #ब्रह्मा को दंडित करने के लिए उनका शीश काट डाल था । इस कृत्य के कारण उन्हें #ब्रह्महत्या का दोष लगा था । इस दोष के #निवारणार्थ ही उन्होंने इस स्तोत्र की #रचना की थी । जो मनुष्य #देवी पूजन के बाद इस स्तोत्र का नित्य #पाठ करता है, वह #ब्रह्महत्या दोष से मुक्त हो जाता है । #संकटकाल में इसका पाठ करने से #पाठकर्ता के सभी कष्ट दूर होते हैं । #महाकालोवाच #महाकौतूहलं स्तोत्रं हृदयाख्यं महोत्तमम् । श्रृणु प्रिये #महागोप्यं दक्षिणायः श्रृणोपितम् ॥ #अवाच्येमपि वक्ष्यामि तव प्रीत्या प्रकाशितं । अन्येभ्यः कुरु गोप्यं च सत्यं सत्यं च #शैलजे#देव्युवाच कस्मिन् युगे #समुत्पन्नं केन स्तोत्रं कृतं पुरा । तत्सर्वं कथ्यतां शंभो #दयानिधि महेश्वरः ॥ भावार्थः #देवी ने पूछा, हे प्रभो ! इस स्तोत्र की रचना किस #काल में और किसके द्वारा हुई? वह सब कृपया मुझे #बताएं#महाकालोवाच पुरा #प्रजापते शीर्षच्छेदनं च कृतावहन् । ब्रह्महत्या कृतेः #पापैर्भैंरवं च ममागतम् ॥ ब्रह्महत्या #विनाशाय कृतं स्तोत्रं मयाप्रिये । कृत्या #विनाशकं स्तोत्रं #ब्रह्महत्यापहारकम् ॥ भावार्थः #महाकाल बोले, हे देवी ! सृष्टि से पूर्व जब मैंने #ब्रह्मा का शिरविच्छेद किया तो मुझे #ब्रह्महत्या का दोष लगा और मैं #भैरव रूप होय गया । ब्रह्महत्या दोष के #निवारणार्थ सर्वप्रथम मैंने ही इस स्तोत्र का #पाठ किया था ।

देखिये काव्या का मुण्डन संस्कार मानिकपुर माँ गंगा किनारे हुआ जिसमे हम घर के कुछ लोग तथा उनकी मौसी थी Pandit Pradeep Pandey 9871030464

देखिये #काव्या का #मुण्डन #संस्कार #मानिकपुर माँ #गंगा के किनारे हुआ जिसमे हम #घर के कुछ लोग तथा उनकी #मौसी का परिवार था by Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/dk8wV0F2LOc #काव्या #पांडेय के #मुंडन #संस्कार, #माता #पिता, #भाई तथा #बेटी, #रामचरितमानस #पाठ ,#सुन्दरकाण्ड #पाठ ,#हवन करते हुए, #ब्राह्मणो द्वारा, #पूड़ी बनाते हुए, #गौहानी, #कोठा, #कोठानेवादिया, #प्रतापगढ़, #उत्तरप्रदेश

वाह आज भी हमारे यहाँ ऐसी प्रथा है देखिये गांव में घर पर ब्रह्मण के भोजन करने का दृश्य 9871030464

आज भी हमारे यहाँ ऐसी प्रथा है देखिये गांव में घर पर ब्रह्मण के भोजन करने का दृश्य Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/JqgfLO-wjhQ

#गांव में घर पर #ब्रह्मण के #भोजन करने का #दृश्य #आज भी हमारे यहाँ ऐसी #प्रथा है #देखिये #काव्या #पांडेय के #मुंडन #संस्कार#माता #पिता#भाई तथा #बेटी#रामचरितमानस #पाठ ,#सुन्दरकाण्ड #पाठ ,#हवन करते हुए, #ब्राह्मणो द्वारा, #पूड़ी बनाते हुए, #गौहानी#कोठा#कोठानेवादिया#प्रतापगढ़#उत्तरप्रदेश

हमारे माता पिता भाई तथा बेटी गांव में रामचरितमानस पाठ के बाद हवन करते हुए by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

हमारे माता पिता भाई तथा मेरी बेटी गांव में रामचरितमानस पाठ के बाद हवन करते हुए, village Program by Pandit Pradeep Pandey 9871030464 https://youtu.be/_3V1LQqFxxo #काव्या पांडेय के #मुंडन #संस्कार के बाद #माता #पिता, #भाई तथा #बेटी घर पर #रामचरितमानस #सुन्दरकाण्ड पाठ एक बाद #हवन करते हुए #काव्या #पांडेय के #मुंडन #संस्कार, #माता #पिता, #भाई तथा #बेटी, #रामचरितमानस #पाठ ,#सुन्दरकाण्ड #पाठ ,#हवन करते हुए, #ब्राह्मणो द्वारा, #पूड़ी बनाते हुए, #गौहानी, #कोठा, #कोठानेवादिया, #प्रतापगढ़, #उत्तरप्रदेश