वैभव लक्ष्मी व्रत कथा, पूजन और उद्यापन विधि, Vaibhav lakshmi vrat katha by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

#वैभव #लक्ष्मी #व्रत #कथा#पूजन और #उद्यापन #विधि#Vaibhav #lakshmi #vrat #katha

#लक्ष्मी जी को #हिंदू #धर्म में #सुख-समृद्धि, #धन#वैभव तथा #ऐश्वर्य की देवी माना जाता है। #देवी लक्ष्मी की कई #मंत्रों से #पूजा की जाती है लेकिन सबसे प्रसिद्ध और प्रभावी मंत्र #वैभव लक्ष्मी #मंत्र को माना जाता है। मान्यता है कि #लक्ष्मी जी की पूजा करते हुए #वैभव लक्ष्मी #मंत्र का जाप करने से व्यक्ति के घर में कभी #धन का अभाव नहीं रहता है।

Advertisements

मंगलवार व्रत कथा, पूजन और उद्यापन विधि, Hanuman ji ki Vrat Katha By Pandit Pradeep Pandey 9871030464

#मंगलवार #व्रत #कथा #पूजन और #उद्यापन #विधि#Mangalvar #Vrat #Katha #मंगलवार #व्रत #कथा #Mangalwar #Vrat #Katha in #Hindi

एक समय की बात है एक #ब्राह्मण #दंपत्ति की कोई #संतान नहीं थी जिस कारण वह बेहद #दुखी थे। एक समय #ब्राह्मण वन में #हनुमान जी की #पूजा के लिए गया। वहां उसने #पूजा के साथ #महावीर जी से एक #पुत्र की कामना की। घर पर उसकी #स्त्री भी #पुत्र की प्राप्ति के लिए #मंगलवार का #व्रत करती थी। वह #मंगलवार के दिन व्रत के अंत में #हनुमान जी को भोग लगाकर ही #भोजन करती थी।

 

सोलह सोमवार व्रत कथा, पूजन और उद्यापन विधि, Solah Somvar Vrat Katha by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

#सोलह #सोमवार #व्रत #कथा#पूजन और #उद्यापन #विधि #सोलह #षोडश 16 #सोमवार #व्रत #कथा के #पाठ से पाएं #शिव-पार्वती का #वरदान

एक बार #भगवान #शिव जी #पार्वती जी के साथ भ्रमण करते हुए #मृत्युलोक की #अमरावती नगर में पहुँचे. उस नगर के #राजा ने भगवान #शिव का एक विशाल #मंदिर बनवा रखा था.#शिव और पार्वती उस #मंदिर में रहने लगे.एक दिन #पार्वती ने भगवान #शिव से कहा- ‘हे #प्राणनाथ! आज मेरी #चौसर खेलने की इच्छा हो रही है.’ #पार्वती की इच्छा जानकर #शिव #पार्वती के साथ चौसर खेलने बैठ गए.

सोमवार व्रत कथा, शिव-पार्वती पूजन और उद्यापन विधि, Somvar Vrat Katha by Pandit Pradeep Pandey

#सोमवार #व्रत #कथा,#पूजन और #उद्यापन #विधि #शिव-पार्वती का #वरदान#Somwar #Vrat #Katha #सोमवार का व्रत #भगवान् #शिव जी व् माता #पार्वती को प्रसन्न करने के लिए रखा जाता है, इस #व्रत को करने से पहले आप मन में जो भी इच्छा हो #भगवान् को जाहिर कर सकते है, और साथ ही उसके बाद #व्रत की शुरुआत कर सकते है, यदि कुंवारी #लडकिया इस व्रत को करती है, तो उन्हें मनचाहा #व्रत मिलता है, और साथ ही इसको करने से #पुत्र चाहने वाले को पुत्र, #धन और प्रतिष्ठा चाहने वाले को धन, और जो भी लोग #भगवान् से चाहते है, उन्हें वो मिलता है, परंतु इसके लिए जरुरी है की आप इस व्रत को पूरी #श्रद्धा और प्रेम से करें |

रविवार व्रत कथा, पूजन और उद्यापन विधि, Surya Dev Vrat Katha by Pandit Pradeep Padey 9871030464

#रविवार #व्रत #कथा#सूर्य #देव #इतवार #व्रत #कथा#पूजन और #उद्यापन #विधि #Surya #Dev #Vrat #Katha व्रत #कथा:- बहुत समय पहले किसी #गांव में एक बुढि़या #अम्मा रहती थी। वह प्रत्येक #रविवार को सुबह उठकर स्नान कर #गोबर से घर लीपती और भोजन बनाकर सबसे पहले सूर्य #भगवान को भोग लगाती थी। इसके बाद ही वह #भोजन ग्रहण करती थी।

#रविवार व्रत #फ़ूड#रविवार #व्रत के #लाभ#रविवार व्रत #उद्यापन विधि, #महारविवार व्रत, #रविवार व्रत #कथा #मराठी#रविवार व्रत का #उद्यापन#सूर्य देव #रविवार का व्रत करने की #विधि और #व्रत की कहानी, #रविवार व्रत: #सूर्य देव को कैसे करें #प्रसन्न#Ravivar #Raviwar #Vrat Katha, रविवार #व्रत कथा, #Sunday #Weekly #Fast#Ravivar #Pooja#रविवार पूजा #विधि व्रत #कथा#इतवार व्रत #कथा#Ravivar #Vrat #Katha#रविवार व्रत #कथा#Ravivar #Vrat Ki #Katha in #Hindi#रविवार #व्रत कथा, #सूर्य देव #इतवार व्रत #कथा#Surya #Dev Vrat #Katha

संतोषी माता व्रत कथा, पूजन और उद्यापन विधि, Sukravar Santoshi Mata Katha by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

#संतोषी #माता #व्रत की #कथा#पूजन और #उद्यापन #विधि #शुक्रवार #व्रत #कथा#Sukravar #Santoshi #Mata #Vrat #Katha

एक #बुढ़िया के के सात बेटे थे। #छः बेटे कमाते थे और #सातवां बेटा नहीं कमाता था। बूढ़ी #माँ कमाने वाले #बेटों के लिए भोजन बनाकर उन्हें खिलाती और बची हुई #झूठन सातवें #बेटे को दे दिया करती थी। #बेटे को यह पता नहीं था। उसकी #पत्नी ने उसे यह बात बताई। उसे #विश्वास नहीं हुआ। छुपकर देखा तो उसे #पता चला की यह #सच था। उसे बड़ा दुःख हुआ। #माँ के खाना खाने बुलाने पर वह बोला- मैं यह खाना नहीं खाऊंगा। #परदेस जाकर कमाई करूँगा। #माँ बोली – कल जाता हो तो आज ही चला जा। यह सुनकर वह तुरंत #घर से निकल गया।

शनिवार की व्रत कथा, पूजन और उद्यापन विधि, Shani Dev Vrat Katha by Pandit Pradeep Pandey 9871030464

#शनिवार की #व्रत #कथा, #पूजन और #उद्यापन #विधि, #शनिदेव की #कथा, #Shanivaar #Vrat #Katha एक समय #स्वर्गलोक में ‘सबसे बड़ा #कौन?’ के प्रश्न पर #नौ ग्रहों में वाद-#विवाद हो गया। #विवाद इतना बढ़ा कि परस्पर भयंकर #युद्ध की स्थिति बन गई। निर्णय के लिए सभी देवता देवराज #इंद्र के पास पहुँचे और बोले- ‘हे #देवराज! आपको निर्णय करना होगा कि हममें से सबसे बड़ा कौन है?’ देवताओं का प्रश्न सुनकर #देवराज #इंद्र उलझन में पड़ गए। #इंद्र बोले- ‘मैं इस प्रश्न का उत्तर देने में असमर्थ हूँ। हम सभी #पृथ्वीलोक में #उज्जयिनी नगरी में राजा #विक्रमादित्य के पास चलते हैं।

#शनिवार व्रत #भोजन, #शनिवार #व्रत की #विधि, #शनिवार #व्रत के #लाभ, #शनिवार की #कहानी, #शनिवार के #व्रत में क्या #खाया जाता है, #शनिदेव का #व्रत कैसे करें, #शनिवार #व्रत का #उद्यापन, #शनिवार की #आरती, #शनिदेव की #कथा और #व्रत #विधि, #Shani #Dev Vrat #Katha, #Shanivar Vrat #Katha, शनिवार #व्रत कथा, #शनिवार की व्रत #कथा, #shanivar Vrat Katha in #Hindi , #Shani Vrat #Katha, #शनिवार व्रत #कथा, #Shanivaar #Vrat #Katha, #Shani Dev #Katha